बाल-ए-जिबरील

[Bal-e-Jibreel][bleft]

बांग-ए-दरा

[Bang-e-Dra][bleft]

ज़र्ब-ए-कलीम

[Zarb-e-Kaleem][bleft]

Meri Naway Shauq Se | मेरी नवाए शौक़ से


मेरी नवाए शौक़ से शोर हरीम-ए-ज़ात में !
ग़लग़ला हाए अल-अमाँ बुतकदा-ए-सिफ़ात में !

हूर-ओ-फ़रिश्ता हैं असीर मेरे तख़्य्युलात में
मेरी निगाह से ख़लल तेरी तजल्लियात में !

गर चे है मेरी जुस्तजू दैर-ओ-हरम की नक़्शबंद
मेरी फ़ुग़ाँ से रुस्तखेज़ काबा-ओ-सोमनात में !

गाह मेरी निगाह-ए-तेज़ चीर गयी दिल-ए-वजूद
गाह उलझ के रह गयी मेरी तोहमात में !

तूने ये क्या ग़ज़ब किया ! मुझको भी फ़ाश कर दिया
मैं ही तो एक राज़ था सीना-ए-कायनात में !