बाल-ए-जिबरील

[Bal-e-Jibreel][bleft]

बांग-ए-दरा

[Bang-e-Dra][bleft]

ज़र्ब-ए-कलीम

[Zarb-e-Kaleem][bleft]

Swami Ramteerth | स्वामी रामतीर्थ

हम-बग़ल दरिया से है ऐ क़तरा-ए-बेताब तू
पहले गौहर था, अब बना गौहर-ए-नायाब तू

आह! खोला किस अदा से तूने राज़-ए-रंगो बू
मैं अभी तक हूँ असीर-ए-इम्तियाज़-ए-रंगो बू

मिट के ग़ोग़ा ज़िन्दगी का शोरिश-ए-महशर बना
यह शरारा बुझ के आतिशख़ाना-ए-आज़र बना

नफ़ी-ए-हस्ती इक करिश्मा है दिल-ए-आगाह का
"ला" के दरिया में निहाँ मोती है "इल्लल्लाह" का

चश्म-ए-नाबीना से मख्फी मानी-ए-अंजाम है
थम गयी जिस दम तड़प, सीमाब सीम-ए-ख़ाम है

तोड़ देता है बुत-ए-हस्ती को इब्राहीम-ए-इश्क़
होश का दारू है गोया मस्ती-ए-तसनीम-ए-इश्क़

____