बाल-ए-जिबरील

[Bal-e-Jibreel][bleft]

बांग-ए-दरा

[Bang-e-Dra][bleft]

ज़र्ब-ए-कलीम

[Zarb-e-Kaleem][bleft]

Huzur-e-Risalat Maab Me | हुज़ूरे रिसालत माब में



गिराँ जो मुझ पे हंगामा-ए-ज़माना हुआ 
जहाँ से बाँध के रख़्त-ए-सफ़र रवाना हुआ। 
Sick of this world and all this world’s tumult
I who had lived fettered to dawn and sunset. 
*

क़ुयूद-ए-शाम-ओ-सहर में बसर तो की लेकिन
निज़ाम-ए-कुहना-ए-आलम से आशना न हुआ। 
Yet never fathomed the planet’s hoary laws,
Taking provisions for my way set out. 
*

फ़रिश्ते बज़्म-ए-रिसालत में ले गए मुझको 
हुज़ूर आया-ए-रहमत में ले गए मुझको !
From earth, and angels led me where the Prophet (PBUH)
Holds audience, and before the mercy‐seat.
*

कहा हुज़ूर ने ऐ अन्दलीब-ए-बाग़-ए-हिजाज़ !
कली कली है तेरी गर्मी-ए-नवा से गुदाज़ 
‘Nightingale of the gardens of Hijaz! each bud
Is melting,’ said those Lips, ‘in your song’s passion‐flood;
*

हमेशा सर ख़ुश-ए-जाम-ए-विला है दिल तेरा 
फ़तादगी है तेरी ग़ैरत -ए-सुजूद-ए-नियाज़ 
‘Nightingale of the gardens of Hijaz! each bud
Is melting,’ said those Lips, ‘in your song’s passion‐flood;
*

उड़ा जो पस्ती-ए-दुनिया से तू सू-ए-गर्दूं 
सिखाई तुझ को मलाइक ने रिफ़अत-ए-परवाज़ 
But since, taught by these Seraphim to mount so high,
You have soared up from nether realms towards the sky
*

निकल के बाग़-ए-जहाँ से ब-रंग-ए-बू आया 
हमारे वास्ते क्या तोहफ़ा ले के तू आया ?
And like a scent comes here from the orchards of the earth—
What do you bring for us, what is your offering worth?’
*

हुज़ूर ! दहर में आसूदगी नहीं मिलती 
तलाश जिस की है वो ज़िन्दगी नहीं मिलती।
‘Master! there is no quiet in that land of time and space,
Where the existence that we crave hides and still hides its face;
*

हज़ारों लाला-ओ-गुल हैं रियाज़-ए-हस्ती में 
वफ़ा की जिसमें हो बू, वो कली नहीं मिलती।
Though all creation’s flowerbeds teem with tulip and red rose,
The flower whose perfume is true love—that flower no garden knows.
*

मगर मैं नज़्र को एक आबगीना लाया हूँ 
जो चीज़ इस में है, जन्नत में भी नहीं मिलती।
But I have brought this chalice here to make my sacrifice;
The thing it holds you will not find in all your Paradise.
*

झलकती है तेरी उम्मत की आबरू इस में 
तराबलस के शहीदों का है लहू इस में !
See here, oh Lord, the honour of your people brimming up!
The martyred blood of Tripoli, oh Lord, is in this cup.’
___

English Translation: Iqbal Urdu Blog