बाल-ए-जिबरील

[Bal-e-Jibreel][bleft]

बांग-ए-दरा

[Bang-e-Dra][bleft]

ज़र्ब-ए-कलीम

[Zarb-e-Kaleem][bleft]

Kya Ishq Ek Zindagi-e-Musta'ar Ka | क्या इश्क़ एक ज़िन्दगी-ए-मुस्तआर का



क्या इश्क़ एक ज़िन्दगी-ए-मुस्तआर का 
क्या इश्क़ पायदार से ना-पायदार का !


What avails love when life is so ephemeral?
What avails a mortal’s love for the immortal?

*
वो इश्क़ जिसकी शमआ बुझा दे अजल की फूँक
उस में मज़ा नहीं तपिश-ओ-इन्तेज़ार का.


Love that is snuffed out by death’s passing blast
Love without the pain, the passion that consumes?

*
मेरी बिसात क्या है, तबो ताब-ए-यक नफ़स 
शोले से बे-महल है उलझना शरार का.


A flickering spark I am, aglow for a fleeting glance
Flow vain for a flickering spark to chase an eternal flame!

*
कर पहले मुझ को ज़िन्दगी-ए-जावेदां अता 
फिर  ज़ौक-ओ-शौक़ देख दिले बेक़रार का !


Grant me the bliss of eternal life, O Lord,
and mine will be the ecstasy of eternal love.

*
काँटा वो दे क: जिसकी खटक ला-ज़वाल हो 
या रब, वो दर्द जिसकी कसक ला-ज़वाल हो !


Give me the pleasure of an everlasting pain
An agony that lacerates my soul for ever.


___

English Translation: Iqbal Urdu Blog