बाल-ए-जिबरील

[Bal-e-Jibreel][bleft]

बांग-ए-दरा

[Bang-e-Dra][bleft]

ज़र्ब-ए-कलीम

[Zarb-e-Kaleem][bleft]

Pareshan Ho Ke Meri Khaak | परेशाँ हो के मेरी ख़ाक



परेशाँ हो के मेरी ख़ाक आख़िर दिल न बन जाए 
जो मुश्किल अब है या रब फिर वही मुश्किल न बन जाए.

न कर दें मुझको मजबूर-ए-नवा फ़िरदौस में हूरें 
मेरा सोज़-ए-दरूं फिर गर्मी-ए-महफ़िल न बन जाए.

कभी छोड़ी हुई मंज़िल भी याद आती है राही को
खटक सी है जो सीने में, ग़म में मंज़िल न बन जाए.

बनाया इश्क़ ने दरिया-ए-नापैदा कराँ मुझ को 
यह मेरी ख़ुद-निगाहदारी मेरा साहिल न बन जाए.

कहीं इस आलम-ए-बेरंग-ओ-बू में भी तलब मेरी
वही अफ़साना-ए-दुम्बाला-ए-महमिल न बन जाए.

उरूज-ए-आदम-ए-ख़ाकी से अंजुम सहमे जाते हैं
क: यह टूटा हुआ तारा महे कामिल न बन जाए.


 ___