बाल-ए-जिबरील

[Bal-e-Jibreel][bleft]

बांग-ए-दरा

[Bang-e-Dra][bleft]

ज़र्ब-ए-कलीम

[Zarb-e-Kaleem][bleft]

Sufi Se | सूफ़ी से



तिरी निगाह में है मोअजज़ात की दुनिया 
मेरी निगाह में है हादसात की दुनिया.

तख़य्युलात की दुनिया ग़रीब है, लेकिन
ग़रीबतर है हयात-ओ-ममात की दुनिया.

अजब नहीं क: बदल दे इसे निगाह तेरी 
बुला रही है तुझे मुमकिनात की दुनिया.

___