बाल-ए-जिबरील

[Bal-e-Jibreel][bleft]

बांग-ए-दरा

[Bang-e-Dra][bleft]

ज़र्ब-ए-कलीम

[Zarb-e-Kaleem][bleft]

Tasuwwuf | तसुव्वुफ़



यह हिकमत-ए-मलकूती, यह इल्म-ए-लाहूती
हरम के दर्द का दरमाँ नहीं तो कुछ भी नहीं.

यह ज़िक्र-ए-नीम शबी, यह मुराक़बे, यह सुरूर 
तेरी ख़ुदी के निगहबां नहीं तो कुछ भी नहीं.

 यह अक्ल जो माह-ओ-परवीं का खेलती है शिकार
शरीक-ए-शोरिश-ए-पिन्हाँ नहीं तो कुछ भी नहीं.

ख़िरद ने कह भी दिया 'ला-इलाह' तो क्या हासिल
दिलो-निगाह मुसलमाँ नहीं तो कुछ भी नहीं.

अजब नहीं क: परेशां है गुफ़्तगू मेरी 
फ़रोग़-ए-सुबह-ए-परेशां नहीं तो कुछ भी नहीं 
___