बाल-ए-जिबरील

[Bal-e-Jibreel][bleft]

बांग-ए-दरा

[Bang-e-Dra][bleft]

ज़र्ब-ए-कलीम

[Zarb-e-Kaleem][bleft]

Wo Harf-e-Raaz | वो हर्फ़-ए-राज़



वो हर्फ़-ए-राज़ क: मुझको सिखा गया है जुनूँ
ख़ुदा मुझे नफ़स-ए-जिब्राईल दे तो कहूँ।
The breath of Gabriel if God on me bestow,
I may in words express what Love has made me know.
*

सितारा क्या मेरी तक़दीर की ख़बर देगा
वो ख़ुद फ़राख़ी-ए-अफ़लाक में है ख़्वार-ओ-ज़ुबूं।
How can the stars foretell what future holds in store?
They roam perplex’d and mean in skies that have no shore.
*

हयात क्या है, ख़्याल-ओ-नज़र की मजज़ूबी
ख़ुदी की मौत है अन्देशा हाए गूनागूँ।
O fix one’s mind and gaze on goal is life, in fact:
To ego’s death to lead the thoughts that mind distract.
*

अजब मज़ा है, मुझे लज़्ज़ते ख़ुदी देकर
वो चाहते हैं क: मैं अपने आप में न रहूँ।
How strange! The bliss of self having bestowed on me,
God mighty will that I beside myself should be.
*

ज़मीर-ए-पाक-ओ-निगाह-ए-बुलंद-ओ-मस्ती-ए-शौक़
न माल-ओ-दौलत-ए-क़ारूँ न फ़िक्र-ए-अफ़लातूँ।
Clean conscience, lofty gaze and zeal is all I hold.
I neither like nor claim Plato’s thought or Croesus’ gold:
*

सबक़ मिला है यह मैराज-ए-मुस्तफ़ा से मुझे
क: आलम-ए-बशरिययत की ज़द में है गर्दूँ।
By Holy Prophet (PBUH)’s Ascent this truth to me was taught,
Within the reach of man high heavens can be brought.
*

यह कायनात अभी ना-तमाम है शायद
क: आरही है दमादम सदा-ए-"कुन-फ़-यकूँ"
The Life perhaps is still raw and incomplete:
Be and it becomes e’er doth a voice repeat.
*

इलाज आतिश-ए-रूमी के सोज़ में है तेरा
तेरी ख़िरद पे है ग़ालिब फ़िरंगियों का फ़ुसूँ।
The West hath cast a spell on yours heart and mind:
In Rumi’s burning flame a cure for yourself find.
*

उसी के फ़ैज़ से मेरी निगाह है रोशन
उसी के फ़ैज़ से मेरे सबू में है जेहूँ।
Through his bounty great my vision shines and glows,
And mighty Oxus too in my pitcher flows.
___

English Translation: Iqbal Urdu Blog