बाल-ए-जिबरील

[Bal-e-Jibreel][bleft]

बांग-ए-दरा

[Bang-e-Dra][bleft]

ज़र्ब-ए-कलीम

[Zarb-e-Kaleem][bleft]

Zarb-e-Kaleem | ज़र्ब-ए-कलीम

ज़र्ब-ए-कलीम 
यानी 

ऐलान-ए-जंग, दौर-ए-हाज़िर के ख़िलाफ़ 


नहीं मक़ाम की ख़ूगर तबीअत आज़ाद 
हवा-ए-सैर मिसाल-ए-नसीम पैदा कर 
हज़ार चश्मा तेरे संग-ए-राह से फूटे 
ख़ुदी में डूब के ज़र्ब-ए-कलीम पैदा कर !

___